भारतीय ऑटोमोबाइल बाजार में साल 2023 में मारुति सुजुकी इंडिया (Maruti Suzuki India) ने लगातार 16वीं बार सबसे ज्यादा कार बेचने वाली कंपनी का खिताब अपने नाम किया। कंपनी ने साल भर में कुल 1,35,2622 कारें बेचीं, जो पिछले साल की तुलना में 12.7% की वृद्धि है। मारुति सुजुकी की सफलता का मुख्य कारण इसकी सब-4 मीटर कॉम्पैक्ट एसयूवी ब्रेजा है, जिसने साल भर में 1,70,588 यूनिट की बिक्री की। ब्रेजा को भारतीय बाजार में एक सफल एसयूवी माना जाता है और यह अपनी कीमत, फीचर्स और ईंधन दक्षता के लिए पसंद की जाती है।

मारुति सुजुकी के अलावा, टाटा मोटर्स और हुंडई मोटर इंडिया भी भारतीय बाजार में सबसे ज्यादा कार बेचने वाली कंपनियों में शामिल हैं। टाटा मोटर्स ने साल भर में कुल 79,6669 कारें बेचीं, जो पिछले साल की तुलना में 54.9% की वृद्धि है। हुंडई मोटर इंडिया ने साल भर में कुल 76,7026 कारें बेचीं, जो पिछले साल की तुलना में 18.7% की वृद्धि है।

साल 2023 में भारत में सबसे ज्यादा बिकने वाली 10 कारों की लिस्ट इस प्रकार है:

रैंक कार का नाम निर्माता बेची गई यूनिट
1 मारुति सुजुकी ब्रेजा मारुति सुजुकी 1,70,588
2 टाटा नेक्सॉन टाटा मोटर्स 1,70,311
3 हुंडई क्रेटा हुंडई मोटर इंडिया 1,57,311
4 टाटा पंच टाटा मोटर्स 1,50,182
5 हुंडई वेन्यू हुंडई मोटर इंडिया 1,29,278
6 मारुति सुजुकी वैगन आर मारुति सुजुकी 1,28,332
7 मारुति सुजुकी अर्टिगा मारुति सुजुकी 1,27,027
8 मारुति सुजुकी डिजायर मारुति सुजुकी 1,26,654

भारत में एसयूवी की बढ़ती लोकप्रियता

भारत में एसयूवी की बढ़ती लोकप्रियता साल 2023 में भी जारी रही। साल भर में भारतीय बाजार में कुल 32,28,760 एसयूवी बिकीं, जो पिछले साल की तुलना में 25.5% की वृद्धि है। इस बढ़ती लोकप्रियता के पीछे कई कारण हैं, जिसमें बढ़ती आय, शहरीकरण और बदलती जीवनशैली शामिल हैं।

एसयूवी खरीदारों को आमतौर पर इनकी बेहतर ऑफ-रोड क्षमता, अधिक जगह और आरामदायक सवारी अनुभव पसंद आता है। इसके अलावा, एसयूवी की बढ़ती सुरक्षा सुविधाएं भी खरीदारों को आकर्षित कर रही हैं।

भारत में एसयूवी बाजार में टाटा मोटर्स, हुंडई मोटर इंडिया और मारुति सुजुकी प्रमुख खिलाड़ी हैं। इन कंपनियों ने हाल के वर्षों में अपने एसयूवी पोर्टफोलियो का विस्तार किया है और नए मॉडल लॉन्च किए हैं।

भारत में एसयूवी बाजार में आने वाले वर्षों में और भी तेजी से वृद्धि की उम्मीद है।

Recent Posts