सफला एकादशी का महत्व

हिन्दू धर्म में व्रतों का आदान-प्रदान है, और सफला एकादशी व्रत हमारे लिए अत्यंत महत्वपूर्ण है। इस बार, 7 जनवरी, 2024 को होने वाली सफला एकादशी नए वर्ष की शुरुआत के रूप में है। यह व्रत पौष मास के कृष्ण पक्ष की एकादशी को सफला एकादशी के नाम से जाना जाता है और इसे करना धर्मिक दृष्टि से महत्वपूर्ण माना जाता है।

पूजा और आशीर्वाद

इस दिन, श्री नारायण भगवान की पूजा करने से उनका आशीर्वाद प्राप्त होता है, जो हमें जीवन में सफलता और खुशियाँ प्रदान करता है। नारायण भगवान के प्रति भक्ति और श्रद्धा के साथ इस व्रत को मनाना बहुत अच्छा माना जाता है।

सफला एकादशी की कथा

कथा के सुनने से ही पूजा सफल हो जाती है और नेगेटिव ऊर्जा से मुक्ति मिलती है। इस दिन को ध्यान में रखते हुए व्रती अपने जीवन को शुद्धता और पवित्रता से भर देते हैं।

सफला एकादशी पर क्या घर लाएं?

  1. कामधेनु गाय की मूर्ति: इस दिन घर में कामधेनु गाय की मूर्ति लाना शुभ माना जाता है, जो धन से युक्त होती है और घर को धन से भर देती है।
  2. सफेद हाथी: सफेद हाथी घर में लाने से शांति और समृद्धि मिलती है, इसे शांति का प्रतीक माना जाता है और घर में गृह क्लेश खत्म होता है।
  3. तुलसी का पौधा: तुलसी को घर लाना धन और धान्य से भरा हुआ महसूस कराता है, क्योंकि तुलसी को लक्ष्मी माता का रूप माना जाता है। इससे घर में ऐश्वर्य बना रहता है और पैसे की कमी नहीं होती।

समाप्ति

इस पवित्र दिन पर, अपने जीवन में नए आरंभ के साथ सफलता की ओर कदम बढ़ाएं और भगवान के आशीर्वाद से जीवन को सजीव, सुखमय, और समृद्धि से भरा बनाएं।

सामान्य प्रश्न:

1. सफला एकादशी के व्रत में कौन-कौन सी चीजें महत्वपूर्ण हैं?

  • सफला एकादशी के व्रत में कामधेनु गाय की मूर्ति, सफेद हाथी, और तुलसी का पौधा लाए जा सकते हैं।

2. क्या सफला एकादशी व्रत के दिन अन्य व्रतों का पालन किया जा सकता है?

  • हाँ, सफला एकादशी के दिन अन्य धार्मिक व्रत भी किए जा सकते हैं, लेकिन व्रती को सात्विक आहार और विशेष पूजा का पालन करना चाहिए।

Recent Posts