नई दिल्ली। भारत और अफगानिस्तान के बीच तीसरे टी20 मैच में भारत ने 2-2 से बराबरी के बाद सुपर ओवर में जीत हासिल कर टी20 सीरीज पर 3-0 से कब्जा कर लिया। यह मैच एक ऐतिहासिक मैच रहा है क्योंकि इंटरनेशनल क्रिकेट में ऐसा पहली बार हुआ है, जब दो-दो सुपर ओवर खेलकर भारत ने जीत हासिल की।

इस मैच में रोहित शर्मा की कप्तानी के साथ बल्लेबाजी भी लजवाब देखने को मिली। रोहित शर्मा ने बड़ी ही सूझबूझ के साथ आखिरी गेंद से पहले पवेलियन लौटने का फैसला किया। तब भारत को जीत के लिए दो रन बनाने थे। जिसके लिए रोहित ने रिंकू सिंह को बैटिंग के लिए सामने लाने की कोशिश की, जिनकी रन बनाने के लिए दौड़ काफी अच्छी है। हालांकि आखिरी गेंद पर एक रन बनाने के बाद यह मुकाबला दूसरे सुपर ओवर में चला गया।

रोहित के फैसले को द्रविड़ ने अश्विन की याद दिलाकर किया सराहा

इसके बाद रोहित शर्मा दूसरे सुपर ओवर में भी बल्लेबाजी करने आए, जो एक बवाल का कारण बन गया, क्योंकि नियमानुसार यदि एक बल्लेबाज सुपर ओवर में आउट हो जाता है तो वो अगले सुपर ओवर में बल्लेबाजी करने के लिए नहीं उतर सकता है। हालांकि रोहित रिटायर्ड आउट हुए या रिटायर्ड हर्ट, ये स्पष्ट नहीं हो पाया। इस मामले को बढ़ता देख राहुल द्रविड़ ने इसपर बड़ा बयान देते हुए अश्विन की याद दिला दी।

द्रविड़ ने मैच के बाद प्रेस कॉन्फ्रेंस में कहा, “खुद को बाहर भेजने का फैसला अश्विन के स्तर की सोच थी। यह अश्विन के लेवल की सोच है. मुझे लगता है कि रोहित ने काफी शानदार निर्णय लिया था। उन्होंने दिखाया है कि वह कितने क्लासिक खिलाड़ी हो सकते हैं।”

रोहित के फैसले की विस्तृत व्याख्या

रोहित शर्मा का यह फैसला कई मायनों में महत्वपूर्ण था। सबसे पहले, यह एक बहुत ही साहसिक फैसला था। रोहित शर्मा एक अनुभवी बल्लेबाज हैं और उन्हें पता था कि उन्हें जीत के लिए दो रन बनाने हैं। लेकिन उन्होंने रिंकू सिंह को भेजकर एक बड़ा जोखिम उठाया। अगर रिंकू सिंह आउट हो जाते, तो भारत हार जाता।

दूसरा, यह एक बहुत ही समझदार फैसला था। रोहित शर्मा को पता था कि रिंकू सिंह तेज दौड़ते हैं और उन्हें दो रन बनाने के लिए सिर्फ एक गेंद थी। इसलिए उन्होंने रिंकू को भेजा और खुद पवेलियन लौट गए। इसका परिणाम यह हुआ कि भारत ने मैच जीत लिया।

तीसरा, यह एक बहुत ही खेल-परिवर्तक फैसला था। रोहित शर्मा के इस फैसले ने भारत को मैच जीतने का मौका दिया। अगर रोहित शर्मा खुद बल्लेबाजी करते और आउट हो जाते, तो भारत हार जाता।

रोहित शर्मा की सूझबूझ और द्रविड़ की तारीफ

रोहित शर्मा के इस फैसले की कई दिग्गज क्रिकेटरों ने तारीफ की है। द्रविड़ के अलावा, सुनील गावस्कर, सचिन तेंदुलकर और विराट कोहली जैसे दिग्गजों ने भी रोहित शर्मा के फैसले की प्रशंसा की है।

गावस्कर ने कहा, “रोहित ने बहुत ही सूझबूझ से फैसला लिया। उन्हें पता था कि रिंकू सिंह तेज दौड़ते हैं और उन्हें दो रन बनाने के लिए सिर्फ एक गेंद थी। इसलिए उन्होंने रिंकू को भेजा और खुद पवेलियन लौट गए। इसका परिणाम यह हुआ कि भारत ने मैच जीत लिया।”

कोहली ने कहा, “रोहित शर्मा का यह फैसला एक मास्टरस्ट्रोक था। उन्होंने मैच को अपनी सूझबूझ से जीत लिया। यह एक बहुत ही महत्वपूर्ण जीत है और यह भारत के लिए एक बड़ी उपलब्धि है।”

भारतीय टीम की शानदार जीत

भारतीय टीम ने इस सीरीज में शानदार प्रदर्शन किया है। टीम ने तीन मैचों की सीरीज 3-0 से अपने नाम कर ली

Recent Posts