केंद्र एवं राज्य सरकार के कर्मचारियों के लिए जनवरी-2024 से महंगाई भत्ता (डीए) और पेंशनर्स महंगाई राहत (डीआर) में चार फीसदी की वृद्धि होने की संभावना है। यह नई पहल के साथ कर्मचारियों को आरामदायक होगा, जो विशेषज्ञों के अनुसार उपभोक्ता मूल्य सूचकांक के आधार पर किया गया है। इस निर्णय से संबंधित विभिन्न पहलुओं की चर्चा यहां की गई है।

आने वाले समय में वृद्धि की संभावना

डीए में चार फीसदी वृद्धि का आकलन कर रहे विशेषज्ञों के अनुसार

एजी ब्रदरहुड के पूर्व अध्यक्ष हरिशंकर तिवारी और स्टॉक एनालिस्ट अनुराग सिंह के अनुसार, जनवरी-2024 से डीए में चार फीसदी वृद्धि होने की पूरी संभावना है। इससे कर्मचारियों को नए साल में आर्थिक सहारा मिल सकता है, जिससे उनकी आर्थिक स्थिति में सुधार हो सकता है।

उपभोक्ता मूल्य सूचकांक के आधार पर आकलन

पिछले सालों से डीए वृद्धि के विश्वकोष स्वरूप, हरिशंकर तिवारी बता रहे हैं कि जनवरी-2023 से नवंबर-2023 तक कर्मचारियों के डीए और पेंशनरों के डीआर में चार फीसदी की वृद्धि होनी चाहिए थी, जो उपभोक्ता मूल्य सूचकांक के आधार पर होनी चाहिए थी।

विचार: अनुमान और संभावनाएं

हरिशंकर तिवारी के अनुसार

तिवारी बताते हैं कि अगर दिसंबर का उपभोक्ता मूल्य सूचकांक नौ अंक कम होता है तो डीए बढ़ोतरी तीन फीसदी तक सीमित हो जाएगी और सूचकांक 23 अंक बढ़ता है तो डीए में पांच फीसदी की बढ़ोतरी होगी। इस अनुमान के अनुसार, चार फीसदी वृद्धि होने की संभावना प्रबल है, जो कर्मचारियों को आर्थिक सुरक्षा प्रदान कर सकती है।

प्रश्नोत्तर: आपके सवालों के उत्तर

  1. क्या डीए और डीआर में वृद्धि का आकलन सही है?
    • हाँ, डीए में चार फीसदी वृद्धि की संभावना है।
  2. क्या यह वृद्धि कर्मचारियों की आर्थिक स्थिति में सुधार करेगी?
    • जी हाँ, यह कर्मचारियों को नए साल में आर्थिक सहारा प्रदान कर सकती है।
  3. क्या दिसंबर का उपभोक्ता मूल्य सूचकांक का असर होगा?
    • हाँ, उपभोक्ता मूल्य सूचकांक के आधार पर डीए बढ़ोतरी को दिसंबर में तीन या पांच फीसदी तक सीमित किया जा सकता है।

Recent Posts