ई दिल्ली: भारत में जमाने के साथ, घरों में खाना बनाने का तरीका बदल रहा है, और अब अधिकांश लोग एलपीजी सिलेंडर का उपयोग करके रसोई में बनाना पसंद कर रहे हैं। आजकल, यहां तक कि अमीर लोग भी खुद अपने गैस सिलेंडर कनेक्शन करवा रहे हैं, जबकि सरकार ने गरीबों के लिए प्रधानमंत्री उज्ज्वला योजना की शुरुआत की है।

इस योजना से कई करोड़ों परिवारों को फायदा हो रहा है, और इससे किसी भी तरह की दिक्कत नहीं हो रही है। लेकिन कई बार देखा गया है कि एलपीजी सिलेंडर से खाना बनाते समय कुछ बचाव के अभाव से दुर्घटनाएं हो जाती हैं।

क्या आप जानते हैं कि इस दुर्घटना के मामले में खास बीमा उपलब्ध है? बहुत कम लोगों को इसकी जानकारी होती है, लेकिन अगर आप दुर्घटना का शिकार हो जाते हैं, तो आप इसके लिए बीमा दावा कर सकते हैं, जिससे किसी भी प्रकार की दिक्कत नहीं होगी। इसके लिए हमारे आर्टिकल को ध्यान से पढ़ना होगा।

सिलेंडर से होने वाली दुर्घटना पर मिलने वाला बीमा: अगर आपके किचन में सिलेंडर फट जाए और इससे होने वाली कोई नुकसान हो, तो आप इसका क्लेम कर सकते हैं। सरकार द्वारा दुर्घटना में क्षति उठाने वाले परिवारों को 50 लाख रुपये तक का मुआवजा मिलता है, जिससे किसी भी तरह की दिक्कत नहीं होती।

क्या यहां प्रीमियम भरने की जरुरत होती है? इसमें सबसे महत्वपूर्ण बात यह है कि आपको किसी भी प्रकार का प्रीमियम नहीं भरना पड़ेगा। एलपीजी सिलेंडर में गैस ज्वलनशील रहती है, जिससे बरताव के बाद भी हादसा होने की संभावना कम होती है।

पेट्रोलियम कंपनियों द्वारा प्रदान किया जा रहा बीमा: अब पेट्रोलियम कंपनियों द्वारा 50 लाख रुपये तक का बीमा प्रदान किया जा रहा है, जिससे नुकसान उठाने वाले परिवारों को क्लेम करने का अधिकार होता है। इसका लाभ किन लोगों को मिलता है, इसके बारे में हम नीचे बता रहे हैं।

लाभ कैसे मिलेगा: सरकारी वेबसाइट के अनुसार, मायएलपीजी इन के अनुसार, रसोई गैस कनेक्शन प्राप्त करने वाले परिवारों को पेट्रोलियम कंपनियों की तरफ से एक्सीडेंट कवर उपलब्ध कराया जा रहा है। गैस लीक होने से हादसे पर 50 लाख रुपये तक का कवर इंश्योरेंस प्रदान किया जाता है, और इसके लिए कोई प्रीमियम नहीं देना पड़ता है। इस तरह, पेट्रोलियम और बीमा कंपनियों की साझेदारी से होने वाली यह सुविधा लोगों को बेहद उपयोगी है और इसका लाभ किन-किन लोगों को मिल सकता है, इसकी जानकारी इस आर्टिकल में मिलेगी।

Recent Posts