खरमास हिन्दू धर्म में एक अशुभ महीना माना जाता है। इस महीने में शादी-ब्याह और मंगल कार्य नहीं किए जाते हैं। खरमास के बाद भगवान शिव के भक्तों के लिए श्रावण मास शुरू हो जाता है। श्रावण मास भगवान शिव का सबसे प्रिय महीना माना जाता है। इस महीने में भगवान शिव की पूजा-अर्चना करने से विशेष लाभ मिलता है।

आज से खरमास खत्म हो रहा है। इसके साथ ही, शादी-ब्याह और मंगल कार्य पूरे देश में शुरू हो जाएंगे। माना जा रहा है कि अब सोने के भाव में एक बार फिर से तेजी देखने को मिल सकती है। हालांकि, आज सोने-चांदी की कीमत सपाट बनी हुई है।

गुडरिटर्न्स वेबसाइट के अनुसार, 24 कैरेट सोने की कीमत आज शुरुआती कारोबार में अपरिवर्तित रही। दस ग्राम 24 कैरेट सोने की कीमत 63,270 रुपये रही। वहीं, 22 कैरेट दस ग्राम सोने की कीमत भी सपाट रही, जिसका भाव आज 58,000 रुपये है।

मुंबई में दस ग्राम 24 कैरेट सोने की कीमत कोलकाता और हैदराबाद की कीमतों के बराबर 63,270 रुपये है। जबकि, दिल्ली में दस ग्राम 24 कैरेट सोने की कीमत 63,420 रुपये, बेंगलुरु में 63,270 रुपये और चेन्नई में 63,760 रुपये रही।

मुंबई में दस ग्राम 22 कैरेट सोने की कीमत कोलकाता और हैदराबाद के बराबर 58,000 रुपये है। जबकि, दिल्ली में दस ग्राम 22 कैरेट सोने की कीमत 58,150 रुपये, बेंगलुरु में 58,000 रुपये और चेन्नई में 58,450 रुपये हो गया है।

वहीं, चांदी की कीमत में भी कोई बदलाव नहीं हुआ है। एक किलो चांदी की कीमत 76,500 रुपये रही। दिल्ली और मुंबई में एक किलोग्राम चांदी फिलहाल 76,500 रुपये पर कारोबार कर रही है। जबकि, चेन्नई में एक किलोग्राम चांदी 78,000 रुपये पर कारोबार कर रही है।

खरमास खत्म होने के बाद शादी-ब्याह और मंगल कार्यों की मांग बढ़ने से सोने-चांदी की मांग भी बढ़ने की संभावना है। इसकी वजह यह है कि शादी-ब्याह और मंगल कार्यों में सोने-चांदी के आभूषणों का इस्तेमाल किया जाता है।

उदाहरण के लिए, अगर कोई व्यक्ति शादी करने जा रहा है तो वह सोने के गहनों की खरीदारी करेगा। इससे सोने की मांग बढ़ेगी। इसी तरह, अगर किसी के घर में कोई मंगल कार्य हो रहा है तो वह सोने या चांदी के बर्तनों की खरीदारी करेगा। इससे भी सोने-चांदी की मांग बढ़ेगी।

खरमास खत्म होने के बाद सोने-चांदी की कीमतों में तेजी आने की संभावना है। हालांकि, यह तेजी कितनी रहेगी, यह आने वाले दिनों में बाजार की स्थिति पर निर्भर करेगा।

अतिरिक्त जानकारी:

  • सोने-चांदी की कीमतों पर अंतरराष्ट्रीय बाजार में भी उतार-चढ़ाव का असर पड़ता है। अगर अंतरराष्ट्रीय बाजार में सोने-चांदी की कीमतें बढ़ती हैं तो भारत में भी इनकी कीमतें बढ़ सकती हैं।
  • रुपये की कीमत में उतार-चढ़ाव का भी सोने-चांदी की कीमतों पर असर पड़ता है। अगर रुपये की कीमत कम होती है तो सोने-चांदी की कीमतें बढ़ सकती हैं।

ध्यान देने योग्य बातें:

  • सोने-चांदी की कीमतें एक दिन में बहुत अधिक नहीं बढ़ती हैं। आमतौर पर, इनकी कीमतें धीरे-धीरे बढ़ती हैं।
  • सोने-चांदी की कीमतों में उतार-चढ़ाव के कारणों को समझकर ही इनका निवेश करना चाहिए।

Recent Posts