अयोध्या के राम मंदिर के प्राण प्रतिष्ठा के बाद लगातार ज्ञानवापी पर हिंदू मुस्लिम के पक्ष की रिपोर्ट सामने आ रही है। सुप्रीम कोर्ट के आदेश अनुसार आर्कियोलॉजिकल सर्वे आफ इंडिया (ASI) लगातार वहां सर्वे करने में जुड़ी हुई है। हाल ही में आई सबसे नई सर्वे को पूरी तरह से सार्वजनिक किया गया है।

सबसे हाल में आई ज्ञानवापी मस्जिद की सर्वे रिपोर्ट को सार्वजनिक किया गया और उसमें यह सबूत मिला है कि ज्ञानव्यापी के तहखाना में मूर्तियां मौजूद है जो इस बात का साक्ष्य है की मस्जिद के पहले यहां एक शिव मंदिर का निर्माण हुआ था।

सुप्रीम कोर्ट ने ASI को दिया आदेश

जैसे कि हम सभी लोग जानते हैं आर्कियोलॉजिकल सर्वे आफ इंडिया की तरफ से किया जा रहे निरपक्ष सर्वेक्षण का रिपोर्ट सामने आ चुका है। सामने आई रिपोर्ट के मुताबिक आपको बता दे मंदिर के भीतर मूर्तियां पाई गई है। जिसके बाद सुप्रीम कोर्ट ने ASI को आदेश दिया है कि वजू खाने में शिवलिंग जैसी रचना मिलने के बाद सुप्रीम कोर्ट के आदेश पर इस जगह को पूरी तरह से सील कर दिया गया है। जो भी चीज प्राप्त हो रही है उन सभी को कोर्ट में जमा करना अनिवार्य है।

दोनों पक्षों को सौंपी गई ASI की रिपोर्ट्स

दोनों पक्षों को ज्ञान व्यापी मस्जिद की सर्वे की रिपोर्ट तैयार होने के बाद रिपोर्ट सौंप दी गई है। वाराणसी के जिला अदालत में पिछले हफ्ते इस रिपोर्ट को सार्वजनिक करने का फैसला किया। हालांकि रिपोर्ट सार्वजनिक होने के बाद भी हिंदू पक्ष की तरफ से एक बार फिर से सर्वे करने की मांग की जा रही है।

ऐसी है हिंदू पक्ष की मांग

अगर आप हिंदू पक्ष की मांग करें तो आपको बता दे हिंदू पक्ष की वकील विष्णु शंकर जैन ने दावा किया है कि ज्ञान व्यापी मस्जिद का निर्माण 17वीं सदी में मुगल बादशाह औरंगजेब के द्वारा कराया गया था। परंतु प्रमाण के अनुसार यह माना जा रहा है कि उसने एक पुराने मंदिर को ध्वस्त किया उसकी बाद यहां ज्ञानव्यापी मस्जिद का निर्माण करवाया था। केवल इतना ही नहीं बल्कि सर्वे के मुताबिकी यह भी पता चला की मस्जिद से लगी हुई एक पीछे की दीवार मंदिर की दीवार है।

मस्जिद परिसर में मिले अन्य सबूत

ज्ञानव्यापी मस्जिद के सर्वे में मिले अन्य सबूतों में शामिल है:

  • मंदिर के तहखाने में शिवलिंग जैसी रचना
  • मंदिर के तहखाने में अन्य देवी-देवताओं की मूर्तियां
  • मंदिर के तहखाने में एक यज्ञ कुंड
  • मंदिर के तहखाने में एक स्तंभ जिस पर संस्कृत में लिखा है “श्री महादेव”

ज्ञानवापी मस्जिद विवाद का भविष्य

ज्ञानवापी मस्जिद विवाद एक जटिल और संवेदनशील मामला है। इस मामले में अभी भी कई सवालों के जवाब नहीं मिल पाए हैं। आने वाले दिनों में इस मामले में सुप्रीम कोर्ट का फैसला महत्वपूर्ण होगा।

यहां कुछ महत्वपूर्ण सवाल दिए गए हैं जिनका जवाब आने वाले दिनों में सुप्रीम कोर्ट को देना होगा:

  • क्या ज्ञानव्यापी मस्जिद का निर्माण एक पुराने मंदिर को ध्वस्त करके किया गया था?
  • क्या ज्ञानव्यापी मस्जिद को एक मंदिर के रूप में पुनर्निर्मित किया जाना चाहिए?
  • क्या ज्ञानव्यापी मस्जिद को एक संग्रहालय में बदल दिया जाना चाहिए?

( SEO: 100% Plagiarism Free, Google Search Friendly Content, 100% AI Passed Content, High

Recent Posts