भारत में गाड़ी चलाने के लिए ड्राइविंग लाइसेंस होना अनिवार्य है। यह केवल एक आवश्यक दस्तावेज ही नहीं, बल्कि पहचान पत्र के रूप में भी काम आता है। ड्राइविंग लाइसेंस दो प्रकार के होते हैं: लर्निंग लाइसेंस और परमानेंट ड्राइविंग लाइसेंस। 16 साल की उम्र से आप लर्निंग लाइसेंस के लिए आवेदन कर सकते हैं, और 18 साल की उम्र या लर्निंग लाइसेंस मिलने के 6 महीने बाद आप परमानेंट ड्राइविंग लाइसेंस के लिए आवेदन कर सकते हैं।

इस लेख में हम आपको बताएंगे कि घर बैठे ऑनलाइन ड्राइविंग लाइसेंस कैसे बनाया जाए:

आवश्यक दस्तावेज:

  • आयु प्रमाण: जन्म प्रमाण पत्र, आधार कार्ड, या 10वीं कक्षा का प्रमाण पत्र
  • पता प्रमाण: बिजली बिल, राशन कार्ड, या वोटर आईडी
  • आधार कार्ड
  • स्वास्थ्य प्रमाण पत्र: डॉक्टर द्वारा हस्ताक्षरित फॉर्म 1-ए
  • पासपोर्ट साइज फोटो

ऑनलाइन आवेदन प्रक्रिया:

  1. परिवहन विभाग की आधिकारिक वेबसाइट (https://parivahan.gov.in/parivahan/) पर जाएं।
  2. अपने राज्य का चयन करें।
  3. “ऑनलाइन आवेदन” लिंक पर क्लिक करें।
  4. “नया लर्निंग लाइसेंस” विकल्प चुनें।
  5. आवश्यक जानकारी और दस्तावेजों को अपलोड करें।
  6. आवेदन शुल्क का भुगतान करें।
  7. ओटीपी दर्ज करें और आवेदन जमा करें

लर्निंग लाइसेंस प्राप्त करने के बाद:

  • 6 महीने तक आप लर्निंग लाइसेंस से गाड़ी चला सकते हैं।
  • 6 महीने बाद, आरटीओ ऑफिस में जाकर ड्राइविंग टेस्ट दें।
  • टेस्ट पास करने पर आपको परमानेंट ड्राइविंग लाइसेंस मिल जाएगा।

ड्राइविंग लाइसेंस के लिए आवेदन करते समय ध्यान रखने योग्य बातें:

  • सभी दस्तावेज मूल और स्व-प्रमाणित होने चाहिए।
  • आवेदन पत्र में सभी जानकारी सही ढंग से भरी जानी चाहिए।
  • आवेदन शुल्क का भुगतान ऑनलाइन माध्यम से करें।
  • ओटीपी को गोपनीय रखें।

ड्राइविंग लाइसेंस के लाभ:

  • गाड़ी चलाने का कानूनी अधिकार
  • पहचान पत्र के रूप में इस्तेमाल
  • विभिन्न सरकारी योजनाओं में लाभ
  • आत्मविश्वास और स्वतंत्रता

ड्राइविंग लाइसेंस एक महत्वपूर्ण दस्तावेज है जो आपको गाड़ी चलाने का कानूनी अधिकार देता है। ऑनलाइन आवेदन प्रक्रिया को आसान बना दिया गया है, ताकि आप घर बैठे ही आवेदन कर सकें।

Recent Posts