This woman gave birth to a child with gas and air, no stitches were needed

लंदन. किसी भी महिला को प्रसव के दौरान असहनीय पीड़ा से गुजरना पड़ता है। वही कहा जाता है कि बच्चा पैदा करने के बाद औरत को एक तरह से दूसरी जिंदगी मिलती है। इसी बीच सोशल मीडिया में एक बहादुर महिला की उसके नवजात शिशु के साथ कुछ तस्वीरें वायरल (Photos Viral) हुई हैं जिसने ये बात साबित कर दी है कि मां से बड़ा योद्धा कोई नहीं होता है ।

इन्हें देखकर चकरा जाएगा आपका दिमाग, एक-दूसरे से 3 हज़ार किलोमीटर दूर हुईं पैदा फिर भी दिखती हैं एक जैसी!

दरअसल, इस महिला ने बिना किसी डॉक्टर की सहायता के घर में ही खुद अपने बेटे को जन्म दिया है हैरानी की बात ये है कि इस महिला ने इस डिलीवरी के लिये एक अनोखी तरकीब को अपनाया। बता दे कि यह खबर डेली स्टार में छपी है, ब्रिटेन की रहने वाली 34 वर्षीय एमा फियरन का यह तीसरा बच्चा है। जब एमा की डिलीवरी होनी थी तो उस वक्त लॉकडाउन था जिस कारण वह अस्पताल जाने में बिल्कुल असमर्थ थी। फिर उसने अपना दिमाग लड़ाते हुए खुद ही घर पर डिलीवरी करने का मन बना लिया।

एमा की डिलीवरी में दिक्कत इसलिए भी आ रही थी क्योंकि उनका बेटा एटिकस जेम्स का वजन 11lb 6oz था, जो की काफी अधिक होता है। लेकिन एमा ने हिम्मत नहीं हारी और तीन घंटे तक वह बच्चे को बाहर आने के लिए लगातार पुश करती रही। उनकी हिपनोबर्थिंग तकनीक अंत में रंग लाई और एटिकस का जन्म हुआ। हैरानी की बात तो ये रही कि इसके बाद एमा को टांके लगाने की भी नौबत नहीं आई।

हिपनोबर्थिंग तकनीक का किया इस्तेमाल
इसके लिये एमा ने घर में मौजूद कुछ सामान का सहारा लिया। उन्होंने दर्द कम करने के लिए हिपनोबर्थिंग तकनीक को इस्तेमाल करते हुए गैस और हवा का इस्तेमाल किया जिससे उसे दर्द कम हो।

ये दो लक्षण ही होते हैं कोविड-19 होने के संकेत, शोध में ये जानकारी आई सामने!

एमा ने बताया कि एटिकस का वजन काफी अधिक था जिससे उन्हें डिलीवरी में मुश्किल तो आई लेकिन वह अपने बेटे को पाकर बहुत खुश हैं। वो बताती है कि उनके पति ने पूरा साथ दिया ।