LAC पर हालात खतनाक, S-400 को तैनात कर रहा है चीन

नई दिल्‍ली: एलएसी पर चीन की हरकत किसी से छूपी नहीं है। ऐसे में दोनों देशों के बीच में तनाव के मद्देनजर जिनपिंग की रेड आर्मी ने साजिश का ऐसा ब्लूप्रिंट तैयार किया है, जो जंग का हिंट दे रहे हैं। एलएसी पर हालात बहुत ही खतनाक हैं, जिसके बाद यह कयास लगाए जा रहे हैं कि भारत और चीन के बीच युद्ध का आरंभ कभी भी हो सकता है।

मीडिया रिपोर्ट में लगातार बताया जा रहा है कि ड्रैगन की आर्मी तिब्बत में लगातार युद्ध का अभ्यास कर रही है। मिसाइलें टेस्ट कर रही है। इधर एलएसी पर तनाव बढ़ता जा रहा है और उधर लाल सेना हमला करने के लिए खुद को तैयार कर रही है। इस बीच वो नई चाल चलने की प्लान तैयार कर रहा है। खबर में यह भी दावा किया जा रहा है कि ड्रैगन एलएसी पर अपने सबसे खतरनाक मिसाइल सिस्टम S-400 को तैनात करने वाला है।

उल्लेखनीय है कि, घातक राफेल भारतीय वायुसेना में शामिल हो चुके हैं। इन्हें लद्दाख से सिर्फ 427 किमी. दूर अंबाला एयरबेस पर तैनात कर दिया गया है। इस बात से ड्रैगन बहुत डरा हुआ है। इसीलिए वो वास्तविक नियंत्रण रेखा पर अपने S-400 की तैनाती करने की दुस्साहस कर सकता है। चीन एस-400 की तैनाती राफेल के हमले से बचने के लिए करने जा रहा है।

जानें क्या है एस-400 – S-400 एक साथ 60 एयरक्राफ्ट को इंगेज कर सकता है। जमीन से हवा में मार करने वाली S-400 की मारक क्षमता अचूक है। ये एक साथ तीन दिशाओं में मिसाइल दाग सकती है। 400 किमी के रेंज में एक साथ कई लड़ाकू विमान को बर्बाद कर सकता है। ये बैलिस्टिक और क्रूज मिसाइलों पर भी हमला करने का क्षमता रखता है। यहां तक कि ये ड्रोन को भी निशाना बना सकता है। ये दुश्मनों के फाइटर प्लेन, ड्रोन, मिसाइल का पीछा करता है और उसे बर्बाद कर देता है। इसके रडार में आने के बाद दुश्मन का बचना नामुमकिन है।

S-400 से एक साथ 36 जगहों पर निशाना लगाया जा सकता है। S-400 ट्रायम्फ मिसाइल एक साथ 100 हवाई खतरों को भांप सकता है। यहां तक कि ये अमेरिका के सबसे डेडलिएस्ट फाइटर जेट F-35 को भी मार गिराने की काबिलियत रखता है। चीन अपने इसी मिसाइल सिस्टम को एलएसी पर तैनात करने की योजना बना रहा है। ड्रैगन के इस खतरनाक प्लान को देखते हुए हिंदुस्तान ने भी पूरी तैयारी कर ली है।

Notifications    Ok No thanks