Yogi government is going to give one crore jobs

लखनऊ: पूरे देश में कोरोना वायरस महामारी ( Coronavirus Pandemic )संकट से लाखों लोगों के रोजगार को खत्म हो गए है। यहां तक की कई लोग अपने गृह राज्य में लौटे है। इसके मद्देनजर में ध्यान में रखते हुए देश के सबसे बड़ी जनसंख्या वाले राज्य उत्तर प्रदेश में मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ( Uttar Pradesh Chief Minister Yogi Adityanath ) एक बार फिर एक दिन में एक करोड़ से ज्यादा रोजगार देने का रिकार्ड ( Employment Record ) बनाने जा रहे हैं। 26 जून को इसे लेकर एक बड़ा आयोजन रखा गया है। जिसमें खुद प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ( Prime Minister Narendra Modi ) भी ऑनलाइन मौजूद रहेगें।

CGBSE class10th 12th result 2020: छत्तीसगढ़ बोर्ड 10वीं,12वीं का रिजल्ट के लिए यहां क्लिक करें

दरअसल आप को बता दे कि एक साथ एक करोड़ से ज्यादा लोगों को रोजगार देने वाला उत्तर प्रदेश पहला राज्य होगा। प्रधानमंत्री मोदी की तरफ से इस कार्यक्रम को लेकर स्वीकृति मिल चुकी है। लॉकडाउन के बाद से पीएम मोदी पहली बार किसी राज्य से जुड़े ऐसे किसी आयोजन में शिरकत करेंगे।

स्किल मैपिंग
दरअसल मुख्यमंत्री योगी ने प्रदेश में प्रवासी कामगारों की आमद के साथ ही हर हाथ को काम, हर घर में रोजगार की तैयारी कर ली थी। राज्य सरकार इसी सूत्र वाक्य के साथ आगे बढ़ी। यही वजह है कि राज्य में प्रवासी कामगारों के आने के साथ ही मुख्यमंत्री योगी ने सभी की स्किल मैपिंग कराने के निर्देश जारी किए थे। श्रमिकों को सरकारी क्वारंटीन सेंटर में रखने के दौरान उनके भोजन और स्वास्थ्य परीक्षण की व्यवस्था की। साथ ही क्वारटींन सेंटर में ही उनके स्किल मैपिंग का भी इंतजाम किया गया।

36 लाख प्रवासी कामगार का पूरा डेटा बैंक
उत्तर प्रदेश सरकार के पास 36 लाख प्रवासी कामगार का पूरा डेटा बैंक मैपिंग के साथ तैयार है। योगी सरकार इन कामगारों को एमएसएमई, एक्सप्रेस वे, हाइवे, यूपीडा, मनरेगा आदि क्षेत्रों में बड़े पैमाने पर रोजगार से जोड़ भी चुकी है। अब ये आंकड़ा एक करोड़ के पार पहुंचने वाला है। यही वजह कि योगी सरकार अब एक करोड़ रोजगार के इस आंकड़े को एक उदाहरण के तौर पर प्रस्तुत करना चाहती है।

UP Board 10th 12th Result 2020: छात्रों को मिलेगी डिजिटल सिग्नेचर वाली मार्कशीट, इस डेट रिजल्ट

स्थानीय स्तर पर रोजगार
जो भी श्रमिक घर आए हैं स्किल मैपिंग के जरिए उनकी दक्षता का पूरा ब्यौरा एकत्र किया गया। विभिन्न विभागों से यह पूछा गया कि वह अपने यहां किस दक्षता के कितने लोगों को रोजगार दे सकते हैं? हर एमएसएमई इकाई से कहा गया कि वह अपने यहां कम से कम एक अतिरिक्त रोजगार का अवसर सृजित करें।