नई दिल्लीः सीरीज का तीसरा टेस्ट मैच भारत के इतिहास में हमेशा के लिए यादगार बन गया। अहमदाबाद के नरेंद्र मोदी स्टेडियम में खेला गया यह मैच दो दिन में ही खत्म हो गया। भारत की सरजमीं पर ऐसा पहली बार हुआ जब चारों पारी 2 दिन में सिमट गई।

भारत ने 10 विकेट से यह मुकाबला जीत लिया, साथ ही टीम ने सीरीज में 2-1 की अजेय बढ़त भी बना ली। इंग्लैंड पूरे मैच बैकफुट पर नजर आई। पहली पारी में 112 और दूसरी में 81 रन ही बना सकी। भारत की बड़ी जीत के बाद टीम के कप्तान विराट कोहली काफी खुश नजर आए।

कोहली ने मैच के बाद कहा, “ईमानदारी से कहूं, तो मुझे नहीं लगता कि दोनों टीमों की बल्लेबाजी की गुणवत्ता अच्छी थी। दोनों टीमों के बल्लेबाजों के पास स्किल्स का अभाव था। गेंद कल अच्छी तरह से बल्ले पर आ रही थी और गेंद मुड़ रही थी। पहली पारी में बल्लेबाजी के लिए यह एक अच्छी विकेट थी, लेकिन दोनों टीमों की बल्लेबाजी खराब थी।

उन्होंने आगे कहा कि पिच पर जो 30 विकेट गिरे, उनमें से 21 विकेट सीधी गेंद पर गिरे। यह विचित्र था कि 30 विकेटों में से 21 विकेट सीधे गेंदों पर मिली। यह एकाग्रता में चूक थी। यही टेस्ट क्रिकेट है। यह बल्लेबाजों का खुद को पर्याप्त रूप से लागू नहीं करने का एक बेहतरीन उदाहरण है।

  • जानिए कौन सी बार दो दिन में खत्म हुए टेस्ट मैच

मोटेरा में खेला गया यह टेस्ट महज़ दूसरे ही दिन खत्म हो गया। टेस्ट क्रिकेट के इतिहास में ऐसा 22वीं बार हुआ है, जब किसी टेस्ट का नतीजा दो दिनों में निकला है। हालांकि, दिलचस्प बात यह रही है कि इसमें 13 बार इंग्लैंड शामिल रहा है। इन 13 मैचों में इंग्लैंड को चार बार हार का सामना करना पड़ा है।

बता दें कि इंग्लैंड ने इस टेस्ट में टॉस जीतकर पहले बल्लेबाज़ी करते हुए अपनी पहली पारी में 112 रन बनाए थे। इसके बाद भारतीय टीम अपनी पहली पारी में 145 रन बना सकी थी। इस तरह भारत ने पहली पारी में 33 रनों की बढ़त हासिल की थी। इसके बाद दूसरी पारी में इंग्लिश टीम सिर्फ 81 रनों पर ऑलआउट हो गई और भारत को 49 रनों का लक्ष्य मिला, जिसे उसने बिना कोई विकेट खोए 7.4 ओवर में हासिल कर लिया।

Recent Posts