क्या आप जानते हैं? केंद्र सरकार ने ऐलान किया है कि प्रधानमंत्री उज्जवला योजना (PMUY) की लाभार्थी महिलाओं को अगले साल यानी 2024-25 में भी सब्सिडी मिलती रहेगी! यह खबर गरीब और जरूरतमंद परिवारों के लिए बड़ी राहत लेकर आई है। इससे न सिर्फ उन्हें रसोई गैस सिलेंडर पर मिलने वाली सब्सिडी का फायदा होगा, बल्कि होली और दिवाली जैसे त्योहारों पर कई राज्यों में मिलने वाले फ्री गैस सिलेंडर का लाभ भी उठा सकेंगी।

सब्सिडी जारी रखने का ऐतिहासिक फैसला

केंद्र सरकार के कैबिनेट ने ऐलान किया है कि वित्तीय वर्ष 2024-25 के लिए भी उज्जवला योजना की लाभार्थी महिलाओं को 300 रुपये की सब्सिडी दी जाएगी। इस फैसले के तहत 31 मार्च 2025 तक महिलाओं को सब्सिडी मिलती रहेगी।

सब्सिडी का सीधा फायदा

यह सब्सिडी सीधे महिलाओं के बैंक खातों में जमा की जाती है, जिससे उन्हें रसोई गैस सिलेंडर रिफिल कराने में काफी मदद मिलती है। सब्सिडी के कारण गैस सिलेंडर की असल कीमत कम हो जाती है, जिससे गरीब परिवारों के लिए रसोई गैस किफायती हो जाता है।

त्योहारों पर फ्री गैस सिलेंडर बोनस!

कई राज्यों की सरकारें उज्जवला योजना की महिला लाभार्थियों को होली और दिवाली जैसे बड़े त्योहारों पर फ्री गैस सिलेंडर रिफिल की सुविधा भी देती हैं। उदाहरण के लिए, उत्तर प्रदेश सरकार ने इस साल अपने बजट में उज्जवला योजना की लाभार्थियों को होली और दिवाली पर मुफ्त गैस सिलेंडर वितरण के लिए 2200 करोड़ रुपये का बजट आवंटित किया है। इससे प्रदेश की 1.75 करोड़ उज्जवला लाभार्थियों में से 93 लाख महिलाएं इस साल फ्री गैस सिलेंडर का लाभ उठा चुकी हैं।

  • कौन पात्र है? BPL परिवार की महिला मुखिया
  • कितनी सब्सिडी मिलेगी? ₹300 प्रति सिलेंडर
  • कब तक मिलेगी सब्सिडी? 31 मार्च 2025 तक
  • फ्री गैस सिलेंडर योजना का लाभ कैसे उठाएं? अपनी राज्य सरकार की योजना के दिशा-निर्देशों को देखें

यह सब्सिडी और फ्री गैस सिलेंडर योजना गरीब परिवारों के लिए बहुत फायदेमंद है। यह योजना उन्हें स्वच्छ ऊर्जा तक पहुंच प्रदान करती है और उन्हें रसोई गैस सिलेंडर खरीदने का खर्च कम करने में मदद करती है।

  • उज्जवला योजना की शुरुआत 1 मई 2016 को हुई थी।
  • इस योजना के तहत अब तक 9 करोड़ से अधिक कनेक्शन जारी किए जा चुके हैं।
  • इस योजना का लक्ष्य 2022 तक सभी BPL परिवारों को रसोई गैस कनेक्शन प्रदान करना है।

यह योजना गरीब परिवारों के जीवन स्तर को बेहतर बनाने में महत्वपूर्ण भूमिका निभा रही है।

यहां कुछ प्रेरक कहानियां हैं जो उज्जवला योजना के प्रभाव को दर्शाती हैं:

  • एक महिला ने बताया कि कैसे इस योजना ने उसे धुएं से भरे चूल्हे से मुक्ति दिलाई है और अब वह स्वच्छ और सुरक्षित तरीके से खाना बना सकती है।
  • एक अन्य महिला ने बताया कि कैसे इस योजना ने उसे अपना छोटा सा व्यवसाय शुरू करने में मदद की है।

Recent Posts

Ganesh Meena is a digital marketing expert and content...