If you also have this problem, then you can be a victim of depression, learn symptoms, protect yourself,अगर आपको भी है ये परेशानी तो आप डिप्रेशन का हो सकते है शिकार, जानें लक्षण, करें बचाव

आज की रोजमर्रा की जिंदगी में हर किसी के जिंदगी में बिल्कुल भी समय नहीं है कि वो किसी से अपने दिल की बात कर पाएं। वहीं इस दौरान लोग अकेला रहना पसंद करने लगते है। साथ ही पता नहीं लगता कि कब डिप्रेशन का शिकार हो गए।

अगर बात करें डिप्रेशन की तो ये एक मूड डिसऑर्डर है जो लगातार उदासी और किसी भी चीज से कोई लगाव न होने के कारण होता है। ये धीरे-धीरे डिप्रेशन में तब्दील हो जाता है। और ये समस्या एक लंबी बीमारी बनकर सामने आती है।
इसका औसत समय 6-8 महीने होता है। इसके उपचार के लिए परिवार, दोस्तों और रिश्तेदारों की मदद बहुत जरूरी है। इसके अलावा साइकोथेरेपी, एंटीडेप्रेसेंट्स दवाइंयों के जरिये उपचार किया जा सकता है।

उदासी, खालीपन की भावनाएं

जब कभी भी आप अपने जीवन में उदासी, नाखुशी महसूस करे तो आपको सर्तक हो जाना चाहिए क्योंकि यह लक्षण ज्यादा समय तक रहते है तो ये चिंता का विषय बन जाते है। वहीं डिप्रेशन से गुजर रहे लोगों के लिए निराशा से उबराना कठिन होता है।

छोटी-छोटी बातों पर भी गुस्सा, चिड़चिड़ापन

वहीं जब आपको छोटी छोटी बातों पर चिड़चिड़ापन होने लगे तो ये डिप्रेशन का एक लक्षण है। जब किसी को डिप्रेशन होता है तो वह अपनी पसंदीदा गतिविधि तक से कतराता है और दूसरों के साथ जुड़कर खुश नहीं रहता।

नींद पर असर

कभी कभी हमारी नींद नहीं पूरी होती है। वहीं जब ये रोजाना हो जाये तो ये एक नींद की समस्यां है। भले ही कितना भी थके हुए हो, लेकिन अगर डिप्रेशन से गुजर रहे हैं तो सोने में परेशानी हो सकती है।

थकान और ऊर्जा की कमी

डिप्रेशन के शिकार व्यक्ति को थकान महसूस होती है। साथ ही शरीर में ऊर्जा बची ही नहीं ऐसा महसूस होता है।

भूख में बदलाव

जब डिप्रेशन की शिकायत हो तो कुछ लोगों का वजन बढ़ता है या कम होता है। यह उनके भूख में बदलाव के कारण होता है। कुछ के लिए इसका मतलब है भूख बढ़ जाना और इसके साथ वजन बढ़ना।

चिंता और बेचैनी

डिप्रेशन से ग्रस्त व्यक्ति में दूसरों की तुलना में घबराहट और चिंता की संभावना अधिक महसूस होती है। बिना किसी खास वजह से डिप्रेशन का शिकार हो जाते है लोग

आत्महत्या का विचार

कभी कभी डिप्रेशन के चलते आत्महत्या का विचार आता है। पूरे समय अपनी जिंदगी को खत्म करने का विचार लगा रहता है।