इमरान खान सरकार नया रास्ता, ‘शिया शून्य’ होगा पाकिस्तान !

नई दिल्ली: पड़ोसी देश पाकिस्तान में हिंदुओं और इसाईयों पर जुल्म-ओ-ज्यादती किसी से छुपी नहीं है। वही पाकिस्तान सरकार इसके एक और कदम आगे निकल गई है। दरअसल आप को बता दें कि हाल में आई मीडिया रिपोर्ट मे मुताबिक अब वहां की हुकूमत मुसलमानों के भी खून की प्यासी हो गई है। फर्क बस इतना है कि ये मुसलमान दूसरे मजहबों की तरह अल्पसंख्यक हैं। सुन्नी बाहुल पाकिस्तान में शिया संप्रदाय के मुसलमानों पर भी जुल्म की इंतेहा हो गई है। अगर ऐसे ही सबकुछ चलता रहा तो अगले कुछ सालों में पाकिस्तान में शिया की आबादी हो जाएगी शून्य।

शिया समुदाय के खिलाफ पाकिस्तान के नफरती सौदागर लगातार ज़हर उगल रहे हैं। ज़हर की पाकिस्तान की पाक जमीन से काफिर शियाओं का सफाया करो। ज़हर की शियाओं को चुन-चुनकर इस मुल्क से हमेशा के लिए मिटा डालो और ज़हर की शियाओं पर इतना जुल्म ढाओ की वो हमेशा-हमेशा के लिए पाकिस्तान छोड़कर चले जाएं।

सिपाह-ए-सहाबा कर रहा साजिश

ऐसा नहीं कि शिया समुदाय के खिलाफ पाकिस्तान में अचानक से ये नफरत की आग भड़की है। यहां से शियाओं को हमेशा-हमेशा के लिए मिटा डालने की साजिश कई साल पहले रची गई। पाकिस्तान की हुकूमत से लेकर बड़े-बड़े हुक्मरान इस साजिश का हिस्सा रहे है वही सिपाह-ए-सहाबा नाम से इस संगठन ने आजकल इस नफरत की आग को ज्यादा से ज्यादा फैलाने की जिम्मेदारी जिसने उठा रखी है।

सिपाह ए सहाबा एक आतंकी संगठन है जो पाकिस्तान से शियाओं का वजूद हमेशा-हमेशा के लिए मिटा डालना चाहता है। शुक्रवार को कराची में जो रैली निकाली गई। उसके पीछे भी इसी का हाथ बताया जा रहा है। सिपाह ए सहाबा के नेताओं ने मंच से गैर शियाओं को भड़काने में कोई कोर कसर नहीं छोड़ी।

पाकिस्तान के शिया मुसलमानओं को अब कुछ नजर नहीं आता या तो सामने सिर्फ घुप्प अंधेरा नजर आता है या फिर नजर आता है। अपनों का वो खून जो जाने कब, कहां और किस दिन किस सड़क पर बहता नजर आए। इनमें से कुछ बदनसीब ऐसे भी हैं जिनकी सालोंसाल तक कोई खबर नहीं आती। हुसैन अहमद हुसैनी भी उन्हीं में से एक है।

साल 2016 में पाकिस्तान पुलिस ने बिना किसी गुनाह के उसे घर से उठाया था लेकिन आज तक वो अपने घर वापस नहीं लौटा। हुसैन की बूढ़ी मां को आज भी अपने जिगर के टुकड़े का इंतजार है। हुसैन की बूढ़ी मां का कहना है कि मेरे तो पहले घर का ताज छिन लिया। क्या बताऊं मैं। पहले शौहर को कत्ल कर दिया। ये जुल्म नहीं तो क्या है कि घर से सोते हुए लोगों को ले जाते हैं और फिर उनको ऐसा मुजरिम बना देते हैं कि कुछ नहीं पता।

खबरों में ऐसी कई घटनाओं का जिक्र सामने आया है। हैरानी की बात यह है कि बढ़ती घटनाओं से पाकिस्तान सरकार अपनी करतूत छुपाने की कोशिस कर रही वही लगातार चुप्पी बनाएं हुए है।

Notifications    Ok No thanks