किसान मार्च : दिल्ली बॉर्डर पर बढ़ाई गई सुरक्षा, डायवर्ट की गई ट्रैफिक

विरोध-प्रदर्शन कर रहे पंजाब के किसानों के गुरुवार सुबह दिल्ली-हरियाणा सीमा पर एकत्र होने के मद्देनजर राष्ट्रीय राजधानी में पुलिस ने सुरक्षा बढ़ाने के साथ ही कई स्थानों पर बैरिकेड लगाए हैं। पुलिस का कहना है कि दिल्ली में विरोध प्रदर्शन करने के लिए किसान समूहों के अनुरोधों को उन्होंने अस्वीकार कर दिया है। हरियाणा पुलिस के साथ मिलकर दिल्ली पुलिस को राजधानी में प्रवेश करने वाले वाहनों की जांच करते हुए देखा गया और अपने ट्रैक्टरों और ट्रॉलियों में बड़ी संख्या में दिल्ली की ओर मार्च कर रहे प्रदर्शनकारी किसानों को रोकने के लिए सीमेंटेड बैरिकेड और रेत के ट्रक लगाए गए।

वरिष्ठ पुलिस अधिकारी विशेष रूप से सिंघू सीमा, फरीदाबाद और गुरुग्राम सीमाओं पर सुरक्षा व्यवस्था की निगरानी कर रहे हैं।

डीसीपी आउटर डॉ. ए. कोआन ने कहा, “किसान आंदोलन और कोविड-19 के मद्देनजर टिकरी बॉर्डर के दोनों किनारों पर किसी भी अप्रिय घटना को रोकने के लिए हरियाणा पुलिस के साथ समन्वय में सुरक्षा को मजबूत किया गया है।”

दिल्ली पुलिस ने कोरोनावायरस महामारी का हवाला देते हुए किसानों के विरोध के अनुरोधों को पहले ही खारिज कर दिया है।

दिल्ली पुलिस पीआरओ ईश सिंघल ने कहा, “26 और 27 नवंबर को दिल्ली में विरोध प्रदर्शन के संबंध में विभिन्न किसान संगठनों से प्राप्त सभी अनुरोधों को अस्वीकार कर दिया गया है और आयोजकों को पहले ही सूचित कर दिया गया है।”

दिल्ली पुलिस ने कोरोनावायरस के मद्देनजर दिल्ली में किसी भी तरह की सभा को आयोजित न कर किसानों से सहयोग करने का अनुरोध किया और ऐसा न होने पर कानून के अनुसार कानूनी कार्रवाई शुरू करने की बात कही।

एहतियात के तौर पर गाजीपुर सीमा, डीएनडी और चिल्ला पर भी सुरक्षा बलों की भारी तैनाती की गई है। दिल्ली यातायात पुलिस द्वारा कई मार्गों को भी मोड़ दिया गया है।

दिल्ली ट्रैफिक पुलिस ने ट्वीट में कहा, “केंद्र सरकार के कृषि बिलों के विरोध में 26 और 27 नवंबर को ऑल इंडिया किसान संघर्ष कॉर्डिनेशन कमिटि द्वारा बुलाए गए विरोध मार्च के मद्देनजर सभी मोटर चालकों को दिल्ली बॉर्डर से बचने की सलाह दी जाती है।”

हरियाणा पुलिस ने किसानों के ‘दिल्ली चलो’ मार्च के हिस्से के रूप में उन्हें राष्ट्रीय राजधानी तक पहुंचने से रोकने के लिए राजमार्गों पर रोड बैरिकेड्स और डायवर्जन स्थापित किए हैं, हालांकि किसानों पर इससे अधिक प्रभाव नहीं पड़ा। किसानों ने धमकी दी है कि यदि अधिकारियों ने उन्हें मार्च के दौरान रोकने की कोशिश की तो वे दिल्ली तक सभी सड़कों को अवरुद्ध कर देंगे।

केंद्र के नए कृषि कानूनों के खिलाफ किसानों द्वारा एक नियोजित विरोध मार्च के मद्देनजर कुछ क्षेत्रों में दिल्ली मेट्रो सेवाएं दोपहर 2 बजे तक के लिए बंद कर दी गई हैं।

Notifications    OK No thanks