नई दिल्ली: गर्मी के मौसम में जामुन का सीजन आता है। ऐसे तो आपको जामुन जरूर खाना चाहिए लेकिन जामुन खाने से शरीर को बहुत सारे फायदे मिलते हैं। आयुर्वेद के अंदर भी कई दवाओं में जामुन का इस्तेमाल होता है। इससे डायबिटीज कंट्रोल में रहती है। जामुन और उसके बीज ब्लड शुगर को कंट्रोल रखने में मदद करते हैं। इसके सेवन पर बीमारियां भी खत्म होती है। अगर आप जामुन का सेवन करते हैं तो उसकी गुठलियों को बिल्कुल भी फेंके नहीं। अब जामुन की गुठलियों को सुखाकर इसके बीज का पाउडर ही बना सकते हैं। इसे खाने पर डायबिटीज से जुड़ी हुई कई समस्याएं भी खत्म हो जाती है तो चलिए जानते हैं जामुन के बीज का किस तरह से उपयोग कर सकते हैं।

क्या है जामुन के बीज के पाउडर के फायदे

जामुन के सीजन में आप खूब जामुन खा सकते हैं और इसके बीजों को धोकर रख लेना चाहिए। अब बीजों को धूप में सुखा देना चाहिए और पाउडर बनाकर तैयार कर लेना चाहिए। यह पाउडर डायबिटीज के मरीजों के लिए बहुत ही फायदेमंद सिद्ध हो सकता है। जामुन के बीच में जंबोलीन और जंबोसिन नाम का एक तत्व मौजूद होता है जो कि शुगर रिलीज को इस लो करने में मदद करता है। डायबिटीज के मरीज भोजन से पहले इस चूर्ण को खा सकते हैं।

इस तरह करें पाउडर तैयार

– सबसे पहले आपको जामुन के बीजों को धो लेना है और अगर जामुन नहीं खाते हैं तो ऐसे ही उसका गूदा अलग कर देना है।
– जिसके बाद बीजों को किसी भी सूखे कपड़े पर रखकर 3 से 4 दिन तक धूप में सूखा देना है
– जब ऐसा लगे कि बीज पूरी तरीके से सूख गए हैं और वजन में हल्के हो चुके हैं तो ऊपर का पतला छिलका उतार देना चाहिए।
– अब इन बीजों को मिक्सी में अच्छी तरीके से पीस लेना है।
– अगर आपको जामुन के बीजों का भरपूर फायदा उठाना है तो खाली पेट सुबह दूध से इस चूर्ण को ले सकते हैं।
– इस चूर्ण को रोजाना खाने पर ब्लड शुगर लेवल भी कंट्रोल में बना रहता है. जामुन के बीज पेट से जुड़ी हुई समस्याएं भी खत्म कर देते हैं।

Recent Posts