Fact Check: क्या रेलवे इस साल अपने कर्मचारियों को नहीं देगा सैलरी, जानें सच्चाई?

नई दिल्ली. कोरोना काल में सोशल मीडिया पर फेक खबरों की बाढ़ आ गई है। वही कई प्रकार को लेकर दावे की पोस्ट वायरल होती रहती है। इसी सोशल मीडिया पर एक खबर वायरल हो रही है जिसमें दावा किया जा रहा है कि रेलवे इस साल अपने कर्मचारियों को सैलरी नहीं देगा। इस खबर के मुताबिक रेलवे ने फैसला लिया है कि साल 2020-21 की सैलरी रेलवे कर्मचारियों को नहीं देगा। दावा किया जा रहा है कि आर्थिक नुकसान की वजह से रेलवे ने ये बड़ा फैसला लिया है।आइए जानते हैं आखिर क्या है इस खबर की सच्चाई…

आखिर क्या है सच? जानिए
इस खबर की पड़ताल करने पर पता चला कि ये खबर फर्जी है। इससे जुड़ी ऐसी कोई भी खबर किसी भी वेबसाइट पर नहीं छापी गई है। वही पीआईबी की तरफ से भी इस बात की पुष्टि की गई है कि रेलवे ने इस तरह का कोई फैसला नहीं लिया है. ऐसे में ये साफ है कि सोशल मीडिया पर वायरल हो रही ये खबर गलत है।

केन्द्र सरकार की प्रेस इंफॉर्मेशन ब्यूरो ने वायरल खबर का खंडन करते हुए कहा है कि रेलवे ने ऐसा कोई फैसला नहीं लिया है। साथ ही, पीआईबी ने पुष्टि की है कि प्रौद्योगिकी क्षेत्र में हो रहे बदलावों के कारण रेलवे इन पदों को रिपोजिशन कर रहा है. पीआईबी फैक्ट चेक ने ट्वीट करते हुए लिखा, ‘रेलवे ने ऐसा कोई निर्णय नहीं लिया है बल्कि प्रौद्योगिकी क्षेत्र में हो रहे बदलावों के कारण रेल मंत्रालय द्वारा इन्हें रिपोजिशन किया जा रहा है।’

बता दें, इससे पहले भी एक और खबर वायरल हुई थी जिसमें दावा किया गयाी था कि रेलवे अपने 50 फीसदी कर्मचारियों को निकालने की तैयारी कर रहा है। हालांकि ये दावा भी गलत साबित हुआ था। सोशल मीडिया पर वायरल खबर में दावा किया जा रहा है कि केंद्र सरकार रेलवे कर्मचारियों की संख्या 50 फीसदी कम करने वाला है और इसके लिए तैयारी भी शुरू हो चुकी है।

Notifications    OK No thanks