Fact Check: बेटी की शादी के लिए गरीब परिवारों को 50,000 रु दे रही मोदी सरकार? जानें सच्चाई

नई दिल्ली. कोरोना काल में फेक न्यूज की बाढ़ सी आ गई है इसी बीच में प्रधानमंत्री की योजनाओं के नाम से देश में कई फर्जीवाड़े भी सामने आ रहे हैं। जिनके नाम पर मासूम लोगों के साथ ठगी की जा रही है। सोशल मीडिया पर एक पोस्ट तेजी से वायरल हो रही है। एक वेबसाइट पर दावा किया जा रहा है कि केंद्र सरकार ‘प्रधानमंत्री बालिका अनुदान योजना’ के तहत तहत गरीबी रेखा से नीचे (BPL) वाले परिवारों को अपनी बेटियों की शादी के लिए 50,000 रुपए की आर्थिक सहायता दे रही है।

जानिए आखिर क्या है सच-वायरल हो रही खबर पूरी तरह फेक है। केंद्र सरकार द्वारा ऐसी कोई योजना नहीं चलाई जा रही है। भारत सरकार की प्रेस इंफॉर्मेशन ब्यूरो (पीआईबी) ने वायरल खबर को खारिज करते हुए स्पष्ट किया है कि इस तरह की कोई योजना शुरू नहीं की गई है।

पीआईबी फैक्ट चेक के ट्विटर हैंडल से लिखा गया है- ‘दावा: एक वेबसाइट पर दावा किया जा रहा है कि केंद्र सरकार ‘प्रधानमंत्री बालिका अनुदान योजना’ के तहत बीपीएल श्रेणी के परिवारों की बेटियों के विवाह के लिए 50,000 रुपए की आर्थिक सहायता प्रदान करेगी। PIBFactCheck: यह दावा फर्जी है। केंद्र सरकार द्वारा ऐसी योजना नहीं चलाई जा रही है।’

 

वेबसाइट में लिखा है कि बालिका अनुदान योजना की शुरुआत हमारे देश के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के द्वारा देश में गरीबी रेखा से नीचे आने वाले BPL श्रेणी के परिवारों की बेटियों को लाभ पहुंचाने के लिए की गयी है। इस योजना के अंतर्गत देश के BPL श्रेणी के परिवारों की अधिकतम दो बेटियों के विवाह के लिए 50000 रु की आर्थिक सहायता केंद्र सरकार द्वारा प्रदान की जाएगी तथा सामान्य श्रेणी के BPL परिवारों की विधवा महिलाओ की दो बेटियों के लिए एकमुश्त 50000 रु की आर्थिक सहायता सरकार की तरफ से प्रदान की जाएगी।

Notifications    OK No thanks