नई दिल्ली: सरकार की तरफ से देश के लोगों के अलग-अलग योजनाएं बनाई जाती है। इस योजना का मकसद देश के आम लोगों की आर्थिक रूप से सहायता करना है और उन्हें जीवन जीने के लिए प्रोत्साहन और मजबूत बनाने का इरादा है। ऐसे ही सरकार की योजनाओं से लाने वाली है जो कि खासतौर पर सिर्फ महिलाओं के लिए चलाई जाएगी। इस योजना का नाम प्रधानमंत्री मातृत्व वंदना योजना बताया जा रहा है। इस योजना का मकसद महिलाओं को आर्थिक रूप से मजबूत बनाना है। उन्हें आत्मनिर्भर भी बनाना है। इस योजना में महिलाओं को सालाना ₹6000 देने का फैसला किया गया है। यह पैसा सरकार द्वारा महिलाओं को सीधे खाते में जाएगा। पर चली जानते हैं उन्हें यह पैसा किस तरह से मिल सकता है।

यह योजना 1 जनवरी 2017 से शुरू की गई है। इसे प्रधानमंत्री गर्भावस्था सहायता योजना भी कहते हैं। जाहिर सी बात है कि आप समझ गए होंगे कि यह योजना सिर्फ महिलाओं के लिए ही मौजूद है। जानकारी के लिए आपको बता दें कि सरकार का यह भी मानना है कि इस योजना के तहत दी जाने वाली जो भी धनराशि होगी वह मां अपने बच्चे की देखभाल के लिए लगाएगी। यह ₹6000 किस्तों में आप को भेजे जाने वाले हैं।

यह भी पढ़ें-E- Shram Card: ई श्रम कार्ड धारकों के लिए आई गुड न्यूज़, बनने जा रहे हैं लखपति, जाने पूरी डिटेल

प्रधानमंत्री मातृत्व वंदना योजना के तहत न्यूनतम आय वाली बेरोजगार महिलाओं की सहायता भी होगी। साथ ही साथ दूसरी तरफ प्रधानमंत्री मातृत्व वंदना योजना के तहत पहली बार गर्भवती और स्तनपान करवाने वाली महिलाओं को वित्तीय सहायता भी मिलेगी।

इस तरह से भेजे जाएंगे खाते में पैसे

इस योजना की शुरुआत मां और बच्चे के बेहतर सेहत और दृष्टिकोण को ध्यान में रखते हुए रखी गई है। इसके अंदर ₹6000 देने का प्रावधान बताया गया है। सरकार यह पैसा तीन किस्तों में भेजेगी यानी कि 3 चरणों में यह पैसा दिया जाने वाला है मोनोग्राम पहले चरण में ₹1000 और दूसरे चरण में ₹2000 और तीसरे चरण में ₹2000 गर्भवती महिलाओं को देने वाले हैं। इसी के साथ-साथ एक हजारों में बच्चे के जन्म के समय अस्पताल में मिलेंगे।

इस तरह से कर सकते हैं आवेदन

अगर आप भी प्रधानमंत्री मातृत्व वंदना योजना की जानकारी प्राप्त करना चाहते हैं तो अपने निकटतम आंगनबाड़ी कार्यकर्ता से इस बारे में बातचीत कर पाएंगे। आवेदन करने के लिए आपके पास में आधार कार्ड, पोस्ट ऑफिस और बैंक अकाउंट की पासबुक के साथ-साथ बच्चे का जन्म प्रमाण पत्र भी होना आवश्यक है।

जैसे ही महिला गर्भ धारण करती है तो उसी के 150 दिनों के अंदर अंदर फॉर्म 1-ए भरने के लिए उन्हें ₹1000 और प्रसव पूर्व जांच के बाद में फार्म 1- बी भरने के बाद में ₹2000 और प्रसव के बाद में फॉर्म 1-सी मरने पर ₹2000 के साथ-साथ बच्चे का पूरा टीकाकरण आदि के लिए भी पैसे मिलने लगेंगे।

Recent Posts