home page

Business Idea: इस बिजनेस को शुरू करके किसान बन गए मालामाल, घर बैठे ही मिलेगी जबरदस्त कमाई

नई दिल्ली: अगर आप भी किसान हैं तो आपको अब टेंशन लेने की आवश्यकता नहीं है। ऐसा इसीलिए क्योंकि बस अब थोड़ा सा रेस्ट कर लेते ही आप के पास पैसों की भरमार होने वाली है।धान और गेहूं के साथ-साथ गन्ने के अलावा भी अब कई सारी फसलें ऐसी हो गई है जिनमें आप मोटा
 | 
Business Idea: इस बिजनेस को शुरू करके किसान बन गए मालामाल, घर बैठे ही मिलेगी जबरदस्त कमाई
Business Idea: इस बिजनेस को शुरू करके किसान बन गए मालामाल, घर बैठे ही मिलेगी जबरदस्त कमाई

नई दिल्ली: अगर आप भी किसान हैं तो आपको अब टेंशन लेने की आवश्यकता नहीं है। ऐसा इसीलिए क्योंकि बस अब थोड़ा सा रेस्ट कर लेते ही आप के पास पैसों की भरमार होने वाली है।धान और गेहूं के साथ-साथ गन्ने के अलावा भी अब कई सारी फसलें ऐसी हो गई है जिनमें आप मोटा मुनाफा कर पाएंगे। बस इसके लिए आपको निवेश करने की आवश्यकता पड़ेगी।हम आपको इस खबर में एक ऐसी खेती के बारे में बताने वाले हैं जिससे कि आप अच्छी खासी कमाई बहुत ही आसानी से कर पाएंगे। इसे आप लखपति बनने का सपना अपना साकार कर पाएंगे। देश और दुनिया में इन दिनों फूलों की डिमांड बहुत ही ज्यादा बढ़ती जा रही है। पूजा अर्चना से लेकर घरों में सजावट तक के लिए लोग फूल का इस्तेमाल किया करते हैं। जिसकी खरीदारी लोग बाजारों में ऊंची ऊंची कीमतों पर कर लिया करते हैं। इसीलिए हम बात करने वाले हैं सूरजमुखी के फूलों की जिन का महत्व बहुत ही ज्यादा बढ़ चुका है। और आगे भी बढ़ता जा रहा है।

सूरजमुखी का फूल सदाबहार होता है जिस की खेती रबी और खरीफ के साथ-साथ जैद तीनों मौसमों में हो जाती है। भारत के अंदर 15 लाख हेक्टेयर भूमि में सूरजमुखी की पैदावार होती है। तकरीबन 9000000 टन का उत्पादन किया जाता है। इसके बीजों से तेल की बड़े स्तर पर बनाया भी जाता है।

इनका उपयोग सुगंधित उत्पाद बनाने के लिए होता है। भारत के अंदर सूरजमुखी की औसत उत्पादकता 7 क्विंटल प्रति हेक्टेयर बताई जाती है। सूरजमुखी के प्रमुख उत्पादक राज्य महाराष्ट्र और कर्नाटक के साथ-साथ उत्तर प्रदेश, आंध्र प्रदेश, पंजाब, हरियाणा और तमिलनाडु होते हैं।

जानिए कितने दिनों में तैयार होती है फसल

सूरजमुखी की फसल एक ऐसी फसल होती है जो कि बहुत कम दिनों के अंदर तैयार की जा सकती है। इसके लिए ज्यादा दिनों तक का इंतजार नहीं करना पड़ता। अगर दिनों की बात की जाए तो 90 से 100 दिन के बीच में सूरजमुखी की फसलें बिल्कुल सही तरीके से तैयार की जा सकती है। सूरजमुखी के बीजों में 40 से 50 फ़ीसदी तेल निकल जाता है। जो कि बाजार में बहुत ही ज्यादा महंगा बिक जाता है। इसी कारण से इसकी खेती के व्यापार के लिए बलुई और हल्की दोमत मिट्टी सबसे बढ़िया रहती है। जिसके अंदर पैदावार भी बहुत ही ज्यादा हो जाती है।

आपको बता दें कि मधुमक्खियों के परागण से सूरजमुखी के पौधे बहुत ही ज्यादा तेजी से बढ़ते जा रहे हैं। इसके लिए किसानों को फसल के आसपास मधुमक्खी पालन करने की भी सलाह मिल जाती है। ऐसा करने पर किसान शहद उत्पादन के माध्यम से अतिरिक्त आय भी प्राप्त कर पाते हैं।

हो जाती है इतनी कमाई

सूरजमुखी की फसल की बुआई करने से पहले आपको यह जाना बहुत ही जरूरी हो जाता है कि इसमें कमाई कितनी होती है। एक हेक्टेयर के अंदर सूरजमुखी के लाभदायक खेती की बुवाई के अंदर करीब 25 से ₹30000 तक का खर्च आ जाता है। एक हेक्टेयर के अंदर करीब 25 क्विंटल फूल निकल जाते हैं। बाजार के अंदर इन फूलों की कीमत तकरीबन ₹4000 प्रति क्विंटल होती है। इससे अनुसार अगर देखा जाए तो आप 25 से ₹30000 का निवेश करके बहुत ही आसानी से ₹100000 से ज्यादा निकाल पाएंगे।

यह भी पढ़ें-बिजली उपभोक्ताओं के लिए आई बड़ी खुशखबरी,अब पूरा बिजली बिल कर दिया जाएगा माफ, जानिए क्या है पूरी डिटेल