मोबाइल हैंडसेट इंडस्ट्री में आ रही 50 हजार नौकरियां, जानिए सैलरी

नई दिल्ली। केन्द्र सरकार देश की अर्थव्यवस्था को सुधारने के लिए लगातरा कदम उठा रही है। कोरोना काल में देश स्थनीय स्तर पर इंडस्ट्री लगाने के लिए योजना पेश की है। वही अगले चार महीनों में देश की हैंडसेट इंडस्ट्री हजारों नौकरी निकालने जा रही है। इंडस्ट्री की ओर से यह फैसला मोदी सरकार की ओर से घोषित पीएलआई स्कीम के बाद लिया गया था। इस स्कीम की घोषणा इसलिए की गई थी ताकि कंपनियों के प्रोडक्शन में इजाफा हो सके। वहीं निर्याद बढ़े और नौकरियों में इजाफा हो सके। जिसके बाद लोकल और विदेशी कंपनियों की ओर से अपना प्रोडक्शन बढ़ाने का फैसला किया है।

50 हजार नौकरी
इंडस्ट्री से जुड़े लोगों के अनुसार अब कर्मचारियों का शहरों और वर्किंग सिटीज में आना शुरू हो गया है। जिसकी वजह से हैंडसेट की मांग में इजाफा रहा है। वहीं कोरोना वायरस से बचाव करते हुए सभी सावधानियों को भी सुनिश्चित करना है। आईसीईए चेयरमैन पंकड मोहिंद्रू के अनुसार अगले साल मार्च तक हैंडसेट इंडस्ट्री 50 हजार कर्मचारियों की भर्ती करने जा रही है।

यह घरेलू कंपनियां देंगी 20 हजार नौकरी
डिक्सन टेक्नोलॉजीज़, यूटीएल निओलिंक्स, लावा इंटरनेशनल, ऑप्टिमस इलेक्ट्रॉनिक्स और माइक्रोमैक्स जैसी घरेलू हैंडसेट निर्माता कंपनियां साल के अंत तक करीब 20 हजार हायरिंग करने जा रही है। यह तमाम भर्तियां पिछले साल के मुकाबले ज्यादा बताई जा रही हैं।

7 लाख लोग करते हैं काम
इंडियन हैंडसेट इंडस्ट्री में करीब 7 लाख लोगों की नौकरी चल रही है। पिछले साल 15 हजार लोगों की भर्ती की गई थी, जबकि इस बार 20 हजार की भर्ती की जा रही है। कंपनियों की ओर से यह सब ऐलान पीएलआई स्कीम के तहत सरकार की तरफ से मदद की घोषणा के बाद हो रहे हैं।

Notifications    OK No thanks